HOT!Subscribe To Get Latest VideoClick Here

लक्ष्य पर कविता | Lakshya Poem In Hindi

 



लक्ष्य को समक्ष रख,
दिन रात परिश्रम कर मनुष्य,
विघ्न बाधाओं से तू ,
बिल्कुल नहीं अब डर मनुष्य ।।


है सीने में गर अगन,
कुछ कर गुजरने के लिए,
सोच मत हो जा मगन,
आरजु को पाने के लिए।।


क्या हवा है, क्या फिज़ा है,
तू देख तो कितना मजा है,
पसीने से लथ-पथ होकर,
शीतल जल का अपना मजा है।।


लक्ष्य-विहीन हो कर जीवन,
कुछ और नहीं केवल सज़ा है,


नई उमंग नई तरंग,
जोश-जवानी के संग,
साहस से पूर्ण अंग-अंग,
शत्रु भी देख हो जाये दंग।।


है दम कहां किसी और में,
जो जीत ले मेरी ये जंग।।


अम्बर से ऊँचा लक्ष्य हो,
तुच्छ दिखता विपक्ष हो,
कोई ज़ोर नहीं, कोई तोड़ नहीं,
मजबूत ऐसा पक्ष हो।।


धरा पर अवसरों की,
है कोई कमी नहीं,
पीछे जो हमने खोया,
आँखों में अब नमी नहीं।।


पृथ्वी जो भाष्कर के,
चारों ओर घूमती है,
एकाग्र हो कर सरिता,
सिंधु को चूमती है।।


पिया को देख दुल्हन,
जैसे झूमती है।।


अवसर अनंत है यहाँ,
तू सोच ले जाना कहाँ,
अब मत देख यहाँ-वहाँ,
अर्जुन की भाँति नयन को,
टिका दे लक्ष्य है जहाँ ।।


x..........................................................................................x.......................................................................................................................x

#Tags: मेरे जीवन का लक्ष्य कविता,प्रोत्साहित करने वाली कविता,जीवन यात्रा पर कविता,छात्रों के लिए कविता,संघर्षमय जीवन पर कविता,5 प्रेरणा देने वाली कविता,लक्ष्य पर दोहा,मेरे जीवन पर कविता Lakshya kavita  lakshya poem in hindi उत्साहवर्धक कविता lakshya se tu na vichalna poem hindi poem lakshya hamesha bade rakho कोई एक कविता लिखिए जिसमें आपके सपनों का वर्णन हो जो आप जीवन में करना चाहते हो जोश भरने वाली कविताएं मेरे जीवन का लक्ष्य पर शायरी poem on goal in hindi लक्ष्य कविता मेरे जीवन का लक्ष्य कविता,लक्ष्य पर शायरी,जीवन संघर्ष है कविता,संघर्ष पर हिंदी कविता,प्रेरणा लक्ष्य पर कविता,lakshya poem,Lakshya Poem In Hindi, AIM लक्ष्य पर कविता Lakshya Kavita Lakshya Poem In Hindi

Post a Comment

0 Comments