HOT!Subscribe To Get Latest VideoClick Here

यार जादूगर | Yaar Jadugar | जगत माटी का ढेला | Title Track | Nilotpal Mrinal |


यार जादूगर तेरी माया 
कोई समझ न पाया
पहेली बनाई सोने की लंका
फिर सोने को जलाया -२
यार जादूगर कहना तेरा घर -२
जगत मट्टी का ढेला रे................
कौन रचैया नाच नचाये रचेह खेला रे....................।। 

यार जादूगर कहना तेरा घर

जैसे बिन के आगे नागन
जैसे झूमे मासन में जोगन -२
वैसे हम माया के आगे
माया हमसे आगे भागे -२ 
लेके कर्म के माटी का थैला रे
जगत मट्टी का ढेला रे......................। 

यार जादूगर कहना तेरा घर

एक दिन माथे पर है ताज
एक दिन गर्दन बिन सरताज -२ 
हो माटी पकने को मांगे आग
उसे से तपे उसे से राख -२ 
एक दिन ख़त्म झमेला रे
जगत मट्टी का ढेला रे....................।। 

यार जादूगर कहना तेरा घर

छीना झपटी है संसार
दुनिया एक बिजली की तार/ताज -२ 
जीवन उतने भर का खेल
जितना इंजन में है तेल -२ 
आता जाता रेला रे

जगत मट्टी का ढेला रे.........
यार जादूगर कहना तेरा घर..........।। 


x..........................................................................................x.......................................................................................................................x

#Tags:यार जादूगर lyrics Yaar Jadugar lyrics  yaar jadugar book release date aughad nilotpal mrinal wikipedia nilotpal mrinal new book nilotpal mrinal books nilotpal mrinal contact number dark horse novel यार जादूगर | Yaar Jadugar | जगत माटी का ढेला | Title Track | Nilotpal Mrinal |

Post a Comment

0 Comments