HOT!Subscribe To Get Latest VideoClick Here

विश्व तंबाकू निषेध दिवस पर कविता हिंदी में | Poem on World Anti Tobacco Day Hindi

Poem on World Anti Tobacco Day Hindi


आज कल के लोग भी क्या शौक़ फरमा रहे है
पैसे देकर भी अपने लिए मौत खरीदकर ला रहे है
उसके ऊपर लिखा होता है लोग उसे खाने से मर जाते है
पता नहीं लोग वो तम्बाकू क्यों खाते है

क्या तम्बाकू के ऊपर कुछ नहीं उनके पास में ?
क्या परिवार वाले नहीं है उनकी आस में ? 
ये तम्बाकू पहले आपकी इच्छा को सन्तुष्ट कर देगा 
फिर आपकी सुंदर प्रवति को दुष्ट कर देगा

पता नहीं किसने बनाया ये ज़हर ज़माने के लिए? 
क्या तम्बाकू से मरने वालो का अकड़ा कम रह गया 
इसका खतरा बताने के लिए? 
अरे इससे दूर हो जाते हो तुम ज़माने से
ऐसा क्या मिलता है इसे खाने से?

क्यों इसे खाके अपने आप को सजा दे रहे हो ?
हम तो मुफ्त में भी न ले ज़हर तुम पैसे देके ले रहे हो!
ये ज़हर कब किसी के प्यार से बड़ा हुआ?
उस प्यार को वापिस लाओ जिसके सामने ये आ खड़ा हुआ
इसे खाने से होती है मौत ये भी इसके ऊपर गड़ा हुआ

x..........................................................................................x.......................................................................................................................x

#Tags: Hindi Poem on Anti Tobacco Day, तम्बाकू विरोधी पर कविता हिंदी में, धूम्रपान पर कविता, World No Smoking Day Poem in Hindi, Poem on Anti Tobacco Day in Hindi, विश्व तंबाकू निषेध दिवस पर कविता, Poem on Anti Tobacco Day in Hindi, विश्व तंबाकू निषेध दिवस पर कविता, 31st May World No Tobacco Day Poem in Hindi, विश्व तंबाकू निषेध दिवस पर कविता, World No Tobacco Day par Kavita in hindi, धूम्रपान पर कविता, क्यों मौत बुला रहे हो?, No Tobacco Day, तम्बाकू निषेध दिवस, World No Tobacco Day (WNTD) poem in Hindi, बीड़ी पर कविता, तंबाकू निषेध दिवस पर शायरी

Post a Comment

0 Comments

close